-->
FB Twitter G+ instagram youtube
इन्हें भी देखे
Rishikul-Jhabua
मातंगी दर्शन
Sai Mandir Jhabua
अशविन आर्ट्स
Google
 

jhabua-history


jhabua princeझाबुआ शहर , यहाँ के राजा झब्बू नायक के नाम से प्रेरित है. झाबुआ शहर पर सेकड़ो वर्ष पहले झब्बू राजा की हुकूमत थी , तथा यहाँ जोधा राठोर राजवंश के महाराजा द्वारा आक्रमण कर झब्बू राजा को परास्त किया गया तत्पश्चात झाबुआ शहर में राजवंशी राज, एवं जोधा राठोर राजवंश के महाराजाओ की हुकूमत हुई.
      जोधा राठौर राजवंश के संस्थापक राव जोधा जी है जिनके ही नाम से राठौर रघुवंशी समाज को जोधा राठौर रघुवंशियो के रूप में जाना गया. झाबुआ शहर पर जोधा राठौर राजवंशी की हुकूमत ई .पु 1584 से शुरू हुई. झाबुआ शहर के प्रथम महाराजा व जोधा राठौर राजवंश के प्रथम रघुवंशी महाराजा केशवदासजी थे जिन्होंने ई. पु 1584 से 1607 तक साम्राज्य संभाला .
        इस प्रकार समय के साथ झाबुआ शहर पर जोधा राठौर राजवंश की राज गद्दी पर राजवंश के विभिन महाराजा आसीन हुए व झाबुआ शहर की बागडोर संभाली. झाबुआ शहर के २० वे महाराजा अजीत सिंह जी वर्ष 1965 से 2002 तक राजगद्दी पर आसीत रहे व वर्ष २००२ में उनके देहावसान के पश्चात् झाबुआ शहर के २१ वे महाराजा के रूप में नरेन्द्रसिंह जी का राजतिलक राज्याभिषेक किया गया . राजतिलक राजवंशी राजपुरोहित श्री हरिओम सिंह जी राजपुरोहित द्वारा अपने रक्त से किया गया . तत्पश्चात महाराजा नरेन्द्र सिंह जी को राजगद्दी पर आसीन किया गया .

 
** चेतावनी :-गोपाल मंदिर वेबसाइट पर दर्शाई गई सभी जानकारी का सम्पूर्ण अधिकार © copyright पीयूष त्रिवेदी के पास सुरक्षित है इस वेबसाइट की किसी भी जानकारी का अनुचित रूप से प्रयोग करना एक अपराध है और इस प्रकार का कृत्य करने वाला का अपराध किसी भी स्थिति मैं माफ़ी योग्य नहीं होगा.